राख Raakh – Shubh Mangal Zyada Saavdhan Arijit Singh

राख Raakh – SMZS - Arijit Singh Lyrics

राख Raakh – SMZS - Arijit Singh Lyrics

Singer Arijit Singh
वो कहते हैं इश्क़ हद में करो
जो इश्क़ क्या है ना जाने
ये दिल तो अनपढ़ देहाती सा है
क्या कुछ लिखा है क्या जाने
बाहर से देखा जिन्होंने
अंदर चले क्या क्या जाने

हम जल जाएंगे राख बचेगी
इश्क़ में इतना आग बचेगी
फिर भी इन सीली आंखों में
आखिरी लॉ तक आस बचेगी

जल जाएंगे राख बचेगी
इश्क़ में इतना आग बचेगी
फिर भी इन् सीली आंखों में
आखिरी लॉ तक आस बचेगी

हम्म..
ओ..

चुप तो ना होगी मोहब्बत
दुशवारियों से डरा के
उम्मीद इसका लहू है
है दर्द इसकी खुराकें
जितने ज़ख़्म और जुड़ेंगे
उतना बढ़ेंगी ये शाखें

वो काट डाले हमें चाहे रोज़
ज़िद्द जड़ में है क्या करेंगे
एक प्यार एक जंग दोनों के दोष
एक घर में है क्या करेंगे

एक दिल ही खुद में बहोत है
किस किस की परवाह करेंगे

हम जल जाएंगे राख बचेगी
इश्क़ में इतना आग बचेगी
फिर भी इन सीली आंखों में
आखिरी लॉ तक आस बचेगी

जल जाएंगे राख बचेगी
इश्क़ में इतना आग बचेगी
फिर भी इन सीली आंखों में
आखिरी लॉ तक आस बचेगी

ओ..
हम्म..


Post a Comment

1 Comments

  1. pakistani movies songs
    If somebody wants expert take on the main topic of blogging next I advise him/her to go to this site, continue the fussy job.

    ReplyDelete